हाल ही में, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उत्तर प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (UPPTCL) के 28 उप-स्टेशनों का उद्घाटन किया। उन्होंने यह भी कहा कि वह 24 घंटे बिजली देने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं। भाजपा सरकार यह भी दावा करती है कि भारत के ग्रामीण इलाकों में 17-18 घंटे बिजली की आपूर्ति होती है और शहर के इलाकों में 24 घंटे बिजली की आपूर्ति होती है। हालांकि, सुल्तानपुर जिले के कई गांव की सच्चाई भाजपा के इस दावे को झूठा साबित करती है।

शाम के लगभग चार बज रहे थे जब हम सुल्तानपुर जिले के दिखोली, दुबेपुर नामक गाँव में पहुँचे। कई ग्रामीण अपने बच्चों के साथ घरों के बाहर बैठे थे। वे हाथ से बने पंखे हाक रहे थे। जब मैंने पूछा कि वे घर के बाहर क्यों बैठे हैं और हाथ के पंखे का उपयोग कयूं कर रहे हैं, तो माजिला ने जवाब दिया, “सुबह से बिजली नहीं है। दोपहर में करीब एक घंटे बिजली थी और फिर अब तक बिजली नहीं। इसलिए हम बाहर बैठे हैं। ”

मजीला ने यह भी कहा कि बारिश के कारण वातावरण थोड़ा ठंडा है। “गर्मियों में, जब बहुत गर्मी होति है, तो हम बिजली के खराब इस्थिति के कारण बहुत ज़्यादा परेशान होजाते हैं। उसने आगे कहा कि इसीलिए वे जल्दी खाना बनाते हैं और तेल का दीपक जला कर खाना खाते हैं।

उसी गाँव के एक अन्य ग्रामीण ने बताया कि वह जानते हैं कि गाँवों में सरकार 18 घंटे बिजली की आपूर्ति कर रही है। “हालांकि, मुझे नहीं पता कि हमें अधिकतम 10 घंटे की बिजली ही क्यों मिलती है।अगर कुछ दोषपूर्ण हो जाता है, तो हमें बिजली के बिना कम से कम दो दिन रहना पड़ता है। उन्हें मरम्मत में अधिक समय लगता है, ” जय कुमार ने कहा। कुमार ने यह भी कहा कि हर 30 से 45 मिनट में बिजली चली जाती है।

सराय, भाई, सुल्तानपुर नामक एक अन्य गाँव में हमारी यात्रा के समय बिजली थी, हालाँकि, ग्रामीण अनियमित बिजली से खुश नहीं थे। “अभी यहां बिजली है, लेकिन यहां 10 घंटे से अधिक बिजली नही रहती। जब हम बिजली कार्यालय में शिकायत करते है तो इस मुद्दे को हल करने कोई आगे नही आता, ” सुरेंद्र कुमार ने कहा।

 

दिखोली के एक घर में बिजली का मीटर। बिजली नहीं होने के कारण कोई रोशनी नहीं झपक रही  है।

 

अलग अलग गांव में अलग अलग लाइट मैन हैं जो लाइट की देख भाल करते हैं। ग्रामीणों  की शिकायत है कि लाइन मेन उनकी शिकायतों को नहीं सुनते हैं। उसके ऊपर, वे मरम्मत कार्य के लिए पैसे भी लेते हैं।

विजय बहादुर यदा,जो सुल्तानपुर  के  दिखाओलि,गाओं में रहते हैं  बताया कि वह सुबह से लाइन मैन से संपर्क कर रहा है, “वह कह रहा है कि वह जल्द ही आ रहा है, लेकिन वह अभी तक नहीं आया यह  देखने के  लिए  की क्या समस्या है। इसके अलावा, वह पैसे भी लेता है  जो मुझे नहीं लगता कि यह सही है क्योंकि यह  बिजली कार्यालय द्वारा होना  चाहिए। ”

सराय गांव के विपिन गुप्ता ने भी यही कहा। “कई बार, ग्रामीण पैसे का योगदान करते हैं और लाइन  मैन को बुलाते हैं और उसे यह कहते हुए बुलाते हैं कि हमने काम के लिए पैसा इकट्ठा किया है। फिर लाइट मैन जल्दी अता  है। इस तरह बिजली विभाग  के लोग  काम करते हैं। पहले, वे नियमित बिजली की आपूर्ति नहीं करते हैं।ओर, फिर वे जो भी दोषपूर्ण हैं, उनकी मरम्मत के लिए शुल्क लेते हैं। लेकिन हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। अगर हम भुगतान नहीं करते हैं तो हमें अधिक दिनों तक बिजली के बिना रहना पड़ेगा जो बर्दाश्त नहीं  है,” गुप्ता ने कहा।

अनियमित बिजली ग्रामीणों के काम को प्रभावित करती है। यादव, जो एक किसान हैं, अपने खेत की ओर उंगली उठाई और कहा, “देखो मैं तीन घंटे से बिजली का इंतजार कर रहा हूं। मुझे अपने खेत की सिंचाई करनी है। मैं इस स्थिति में खेती कैसे कर सकता हूं। ” यादव ने आगे कहा, “हम इतने अमीर नहीं हैं कि हम खेती करने के लिए जनरेटर खरीद  लें।”

सुल्तानपुर के नरहरपुर गाँव  का एक और ग्रामीण जो कुम्हार है और डिस्पोजेबल मिट्टी के गिलास और कप  बनाता है और रेस्टोरेंट  को सप्लाई करता है।अनियमित बिजली की वजह से उनके काम में देरी हो जाती है। “यह वर्षों से है। हम इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते हैं, चाहे हम कितनी भी बार गाँव के प्रधान से अनियमित बिजली के बारे में बात कर लें, ”नन्हे लाल ने कहा।

उत्तर प्रदेश सरकार ने बिजली के मुद्दों पर शिकायत करने के लिए ग्राहक सेवा  नंबर प्रदान किए हैं। हालाँकि, यह सही तरह से  काम नहीं करता। मैंने अपने गांव देहली मुबारक में एक हफ्ते पहले अनियमित बिजली की शिकायत की। मुझे एक संदेश भी मिला कि समस्या हल हो गया  है। हालांकि, कई शिकायतें करने के बाद भी 7 घंटे से अधिक बिजली नहीं आती  गाँव में।

 

 

 

सीएम योगी आदित्यनाथ 24 घंटे बिजली देने का वादा कर रहे हैं। सबसे पहले, उत्तर प्रदेश सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में नियमित रूप से 18 घंटे बिजली मिल रही है और लगातार होने वाली कमियों को कम करें और फिर आगे के वादे करें।

 

हिंदी में और ऐसी ख़बरें यहाँ पढ़ें 

 

अगर आपके गाँव या शहर में कोई मुद्दे हैं जो मीडिया में आने चाहिए तो आप 9029194433 पर संपर्क करें